हम तेरे शहर में Hum Tere Shahar Mein Lyrics

Hum Tere Shahar Mein Lyrics in Hindi from the movie Tere Shahar Main, sung by Gulam Ali. The song is written by Qaiser ul Jafri.



Song Details:

Song Title: Hum Tere Shahar
Singer: Gulam Ali
Lyrics: Qaiser ul Jafri
Album: Tere Shahar Main



हम तेरे शहर में Hum Tere Shahar Mein Lyrics in Hindi

हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
सिर्फ़ इक बार मुलाक़ात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…

मेरी मंजिल है कहाँ मेरा ठिकाना है कहाँ,
मेरी मंजिल है कहाँ मेरा ठिकाना है कहाँ,
सुबह तक तुझसे बिछड़ कर मुझे जाना है कहाँ,
सोचने के लिए इक रात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…

अपनी आंखों में छुपा रखें हैं जुगनू मैंने,
अपनी आंखों में छुपा रखें हैं जुगनू मैंने,
अपनी पलकों पे सजा रखें हैं आंसू मैंने,
मेरी आंखों को भी बरसात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…

आज की रात मेरा दर्द-ऐ-मोहब्बत सुन ले,
आज की रात मेरा दर्द-ऐ-मोहब्बत सुन ले,
कंप-कंपाते हुए होठों की शिकायत सुन ले,
आज इज़हार-ऐ-खयालात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…

भूलना था तो ये इकरार किया ही क्यूँ था,
भूलना था तो ये इकरार किया ही क्यूँ था,
बेवफा तुने मुझे प्यार किया ही क्यूँ था,
सिर्फ़ दो चार सवालात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…

सिर्फ़ इक बार मुलाक़ात का मौका दे दे,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह,
हम तेरे शहर में आए हैं मुसाफिर की तरह…



Hum Tere Shahar Mein Lyrics in English

Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Sirf Ek Baar Mulaqaat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah…

Meri Manzil Hai Kahan Mera Thikana Hai Kaha,
Meri Manzil Hai Kahan Mera Thikana Hai Kaha,
Subah Tak Tujh Se Bichhad Kar Mujhe Jaana Hai Kaha,
Sochne Ke Liye Ek Raat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah…

Apani Aankho Mein Chhupa Rakhe Hai Juganu Meine,
Apani Aankho Mein Chhupa Rakhe Hai Juganu Meine,
Apani Palko Pe Saja Rakkhe Hain Aansu Meine,
Meri Aankho Ko Bhi Barsaat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah…

Aaj Ki Raat Mera Dard-E-Muhaabat Sun Le,
Aaj Ki Raat Mera Dard-E-Muhaabat Sun Le,
Kap Kapate Huae Hotho Ki Shikaayat Sun Le,
Aaj Izhaar-E-Khayaalat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Mein Aaye Hain Musafir Ki Tarah…

Bhulana Tha Toh Ye Iqraar Kiyaa Hi Kyuu Tha,
Bhulana Tha Toh Ye Iqraar Kiyaa Hi Kyuu Tha,
Bewafa Tune Mujhe Pyar Kiya Hi Kyun Tha,
Sirf Do-Chaar Sawalat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Main Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Main Aaye Hain Musafir Ki Tarah…

Sirf Ek Baar Mulaqaat Ka Mauqa De De,
Hum Tere Shahar Main Aaye Hain Musafir Ki Tarah,
Hum Tere Shehar Main Aaye Hain Musafir Ki Tarah…


और भी गजलें

More Ghazals

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here